QR कोड स्कैन करके WeChat पर रोलेक्स को फ़ॉलो करें
रोलेक्स मूवमेंट कैलिबर 3255
न्यू जेनरेशन रोलेक्स मूवमेंट कैलिबर 3255

कार्य-प्रदर्शन के नए मानक

कैलिबर 3255

रोलेक्स 14 पेटेंट से युक्त नई जेनरेशन का मैकेनिकल मूवमेंट कैलिबर 3255 पेश कर रहा है, जो घड़ी के मूवमेंट की मुख्य विशेषताओं के लिए निष्पादन के नए मानक कायम कर रहा है: यानी सटीकता, पॉवर रिज़र्व, विश्वसनीयता, झटकों और चुंबकीयता का प्रतिरोध, और उसके साथ ही एडजस्टमेंट की आसानी तथा सुविधा।

रोज़मर्रा में पहनी जाने वाली घड़ियों में कैलिबर 3255 की सटीकता के मानदंड आधिकारिक रूप से प्रमाणित क्रोनोमीटर से दोगुना ज़्यादा कठोर हैं। इसमें रोलेक्स द्वारा पेटेंटीकृत नया क्रोनर्जी एस्केपमेंट शामिल है, जो उच्च ऊर्जा कुशलता और शानदार भरोसेमंदी का संयोजन करता है। निकेल-फ़ॉस्फोरस से बना यह पुर्ज़ा भी चुंबकीय हस्तक्षेप से अप्रभावित रहता है। घड़ी के वास्तविक हृदयस्थल, ऑस्सिलेटर में एक ऑप्टिमाइज़ किया हुआ ब्लू पैराक्रोम हेयरस्प्रिंग है, जो झटकों के मामले में पारंपरिक हेयरस्प्रिंग से 10 गुना ज़्यादा सटीक है। नई बैरल संरचना और एस्केपमेंट की बेहतर कुशलता की बदौलत, कैलिबर 3255 का पॉवर रिज़र्व तीन दिनों तक चल जाता है। इसका मतलब है कि अगर घड़ी को पहना नहीं जाता है या चाभी नहीं दी जाती है तो भी वह शुक्रवार की शाम से सोमवार की सुबह तक आसानी से चलती रहेगी।

सटीकता 2x ज़्यादा सटीक एक आधिकारिक क्रोनोमीटर की तुलना

ऑटोनॉमी 70 घंटे (+50%)

क्रोनर्जी एसकेपमेंट कार्यकुशलता +15%

पेटेंट 14

नए घटक >90%

बेहतरीन सटीकता

कैलिबर 3255

कैलिबर 3255 के साथ, रोलेक्स ने क्रोनोमीट्रिक सटीकता का एक नया स्तर कायम किया है जिसके मानदंडों ने COSC (स्विस आधिकारिक क्रोनोमीट्रिक टेस्टिंग इंस्टीट्यूट) को भी पीछे छोड़ दिया है। रोलेक्स ने अपने सुपरलेटिव क्रोनोमीटरों की सटीकता की जांच करने के लिए एक नई तकनीक और उच्च प्रौद्योगिकी उपकरण विकसित किए हैं जिनकी टॉलरेंस आधिकारिक प्रमाणन के मुकाबले दोगुनी अधिक कठोर हैं, और ऐसी स्थितियों में जांच करते हैं जो पहनने वाले के वास्तविक जीवन के अनुभवों को सिम्युलेट करती हैं। ये एक्सक्लूसिव क्रोनोमीटर जांचें आधिकारिक COSC प्रमाणन की संपूरक हैं जिसके लिए सभी रोलेक्स मूवमेंट अब भी व्यवस्थित रूप से जमा किए जाते हैं, और ये जांचें न केवल मूवमेंट पर, बल्कि मूवमेंट को केसबंद करने के बाद असेंबल्ड घड़ियों पर भी संपन्न की जाती हैं। रोज़मर्रा पहनने की वास्तविक स्थितियों का पता लगाने के लिए बड़े पैमाने पर किए गए सांख्यिकीय अध्ययनों के बाद रोलेक्स ने जांच का एक विशिष्ट प्रोटोकॉल तैयार किया। इसके परिणामस्वरूप, इस नई पद्धति से जांचे गए मूवमेंट जिन रोलेक्स क्रोनोमीटरों में लगे हैं वे कलाई पर बेहतरीन सटीकता प्रदर्शित करते हैं।

नया क्रोनर्जी एस्केपमेंट

ऑटोनॉमी

रोलेक्स द्वारा विकसित और पेटेंटीकृत कैलिबर 3255 का क्रोनर्जी एस्केपमेंट स्विस लीवर एस्केपमेंट का एक आप्टिमाइज़ किया हुआ वर्शन है। इसकी विश्वसनीयता को बरकरार रखते हुए इसकी ऊर्जा कुशलता को बढ़ाया गया है।
इसे और भी कार्यकुशल बनाने के लिए, रोलेक्स के इंजीनियरों ने स्विस लीवर एस्केपमेंट का विश्लेषण किया और उन मुख्य पैरामीटर को अलग किया जिनमें सुधार की आवश्यकता थी। जो समाधान तय पाया गया उसमें एस्केप व्हील के दांतों और पैलेट स्टोन्स के बीच लंबाई के अनुपात को उलट देने की ज़रूरत थी। अब पैलेट स्टोन की मोटाई पहले की तुलना में केवल आधी रह गई है, लेकिन एस्केप व्हील के दांतों की संपर्क सतहें दोगुनी कर दी गई हैं। इसके अलावा, एस्केपमेंट के घटक अब एलाइनमेंट में नहीं हैं बल्कि हल्का-सा हटकर हैं जिससे लीवर के प्रभाव को बढ़ाया जा सके।
पैलेट फॉर्क और एस्केप व्हील निकेल-फ़ॉस्फोरस से बने हैं ताकि वे चुंबकीय हस्तक्षेपों से प्रभावित न हों। एस्केप व्हील को कट-‍आउट डिज़ाइन में बनाया गया है जिससे वह हल्का रहे और उसका जड़त्व कम हो।
साथ मिलकर, ज्यामिति में किये गये इन सुधारों ने एस्केपमेंट की कुशलता को 15 प्रतिशत बढ़ा दिया है, जो कि कैलिबर 3255 के बढ़े हुए पॉवर रिज़र्व में लगभग आधे का योगदान करता है।

मूवमेंट के कार्य करने में एस्केपमेंट एक बड़ी भूमिका निभाता है। इसकी आगे-पीछे होने वाली धड़कनों से ही मैकेनिकल घड़ियों की चिरपरिचित "टिक-टिक" ध्वनि निकलती है। यह गियर ट्रेन और ऑस्सिलेटर के बीच स्थित होता है और "समय की कुंजी होता है": एस्केप व्हील गियरों के ज़रिए मेनस्प्रिंग से सीधी ऊर्जा प्राप्त करता है और पैलेट फोर्क से मिले आवेगों के ज़रिए उसे ऑस्सिलेटर को संचारित करता है। ऑस्सिलेटर की नियमित आगे-पीछे की गति समय के विभाजन को निर्धारित करती है जिसे फिर एस्केपमेंट गियर ट्रेन के ज़रिए सुइयों को संचारित कर देता है।

एस्केपमेंट को समझना
रोलेक्स का नया क्रोनर्जी एस्केपमेंट

पैराक्रोम हेअरस्प्रिंग के साथ ऑस्सिलेटर

सटीकता

कैलिबर 3255 के ऑस्सिलेटर में ब्लू पैराक्रोम हेअर स्प्रिंग लगा है, जिसे रोलेक्स ने पेटेंट कराया है और निओबियम और ज़रकोनियम के एक्सक्लूसिव एलॉय से इसका उत्पादन किया जाता है। यह चुंबकीय क्षेत्रों और तापमान में अंतरों से प्रभावित नहीं होता, और पारंपरिक हेयरस्प्रिंग की तुलना में झटकों को झेलने की 10 गुना अधिक  क्षमता रखता है। इसमें एक ऑप्टिमाइज़ किया हुआ रोलेक्स ओवरकॉइल लगा है, जो किसी भी स्थिति में कंपनों के आइसोक्रोनिज़्म को बढ़ाता है।
परिवर्ती जड़त्व वाली बड़ी बैलेंस व्हील में चार गोल्ड माइक्रोस्टेला नट लगे हैं जिससे बेहद सटीक नियमन संभव हो पाता है। इसकी नए सिरे से डिज़ाइन की गई ज्यामिति और उच्च-सटीकता मशीनिंग ने संतुलन को तीन-गुना बढ़ा दिया है।
ऑस्सिलेटर एक नए बैलेंस स्टाफ़ से जुड़ा है जिसकी एक्सक्लूसिव ज्यामिति चुंबकीय हस्तक्षेपों के प्रति और अधिक प्रतिरोधी बनाती है। इसे हाई-परफ़ॉर्मेंस पैराफ़्लेक्स शॉक एब्ज़ार्बर्स पर फ़िट किया जाता है और एक आर-पार फैला ब्रिज इसे दृढ़ता से अपनी जगह पर रोके रखता है जिससे झटकों के प्रति इसकी प्रतिरोधी क्षमता और बढ़ जाती है। बैलेंस ब्रिज में एक ऑप्टिमाइज़ किया गया ऊँचाई घटाने-बढ़ाने का सिस्टम और बैलेंस व्हील के लिए नई एकीकृत सुरक्षा शामिल है।

ऑस्सिलेटर किसी भी मैकेनिकल मूवमेंट का हृदय होता है। इस नियामक अंग में एक हेयरस्प्रिंग और बैलेंस व्हील होते हैं, और यह घड़ी के कंपनों की नियमितता द्वारा उसकी सटीकता का निर्धारण करता है। रोलेक्स घड़ी का ऑस्सिलेटर एक सेकंड में आठ बार, या वर्ष में 25 करोड़ से ज़्यादा बार धड़कता है। ऑस्सिलेटर की नियमितता बनी रहे, इसके लिए उसे अपने कार्य-प्रदर्शन में बाधा डाल सकने वाले बाहरी कारकों का प्रतिरोध करने में सक्षम होना चाहिए, जैसे तापमान में उतार-चढ़ाव, झटके, चुंबकीय क्षेत्र और अलग-अलग स्थितियों में गुरुत्वाकर्षण का अलग-अलग प्रभाव।

ऑस्सिलेटर को समझना
पैराक्रोम हेअरस्प्रिंग के साथ ऑस्सिलेटर

कार्यकुशल गियर ट्रेन

विश्वसनीयता

गियर-ट्रेन की कार्यकुशलता को ऑप्टिमाइज़ किया गया है। रोलेक्स ने उल्लेखनीय रूप से अधिक लंबे जीवनकाल और समय के साथ अधिक स्थिरता वाले एक्सक्लूसिव हाई-परफ़ॉर्मेंस लुब्रिकेंट भी विकसित और सिंथेसाइज़ किए हैं। रोलेक्स अकेला स्वतंत्र विनिर्माता है जिसने अपने लुब्रिकेंट खुद विकसित और सिंथेसाइज़ किए हैं।

गियर ट्रेन ऐसे दंतीले पहियों की एक श्रृंखला है जो बैरेल से एस्केपमेंट तक ऊर्जा को संचारित करती है। अपने अलग-अलग आकार के पहियों और गियर के अनुपातों के ज़रिए, यह ऑस्सिलेटर की धड़कनों को सुइयों द्वारा दिखाए जाने वाले घंटे, मिनट और सेकंड में रूपांतरित कर देती है। इस मैकेनिकल असेंबली का सही लुब्रिकेशन और उच्च-गुणवत्ता के लुब्रिकेंट मूवमेंट के सही ढंग से काम करने और अनेक वर्षों तक इसकी विश्वसनीयता को बनाए रखने के लिए अत्यावश्यक है।

गियर-ट्रेन को समझना
रोलेक्स कार्यकुशल गियर ट्रेन

उच्च क्षमता वाला बैरल

ऑटोनॉमी

घड़ी के मूवमेंट के भीतर जगह का बहुत महत्व होता है। कैलिबर 3255 में मेनस्प्रिंग के बैरल का आकार बढ़ाए बिना मेनस्प्रिंग की क्षमता बढ़ाना के लिए, रोलेक्स ने बैरल की दीवारों की मोटाई घटाकर आधी करके उसके भीतर के स्थान का अधिकतम उपयोग करने का निर्णय किया। इस समाधान ने मशीनिंग और उत्पादन प्रक्रिया दोनों के लिए खासी बड़ी चुनौती पेश की, और इंडस्ट्री की वर्तमान उत्पादन पद्धतियों की सीमाओं को पीछे छोड़ दिया। इसके कारण हासिल हुए स्थान में अधिक क्षमता का मेनस्प्रिंग लगाया जा सका, जिससे मूवमेंट की ऑटोनॉमी में 10 घंटे से अधिक की वृद्धि हो गई।

बैरल मूवमेंट को ऊर्जा की आपूर्ति करता है। भीतर मेनस्प्रिंग होता है जिसकी शक्तिशाली कुंडलियां उस ऊर्जा को अपने में समेट लेती हैं जो मूवमेंट में हाथ से या सेल्फ़-वाइंडिंग सिस्टम द्वारा चाभी दिए जाने से पैदा होती है। जैसे-जैसे मेनस्प्रिंग की कुंडली खुलती है, इससे ऊर्जा का एक निरंतर प्रवाह उत्पन्न होता है जो एस्केपमेंट की प्रत्यावर्ती गति द्वारा नियंत्रित किया जाता है। मेनस्प्रिंग से आने वाली ऊर्जा गियर ट्रेन के ज़रिए एस्केपमेंट और ऑस्सिलेटर को संचारित की जाती है। इसीलिए मूवमेंट की ऑटोनॉमी या दो वाइंडिंग के बीच के समय में पॉवर रिज़र्व इस बात पर निर्भर करता है कि मेनस्प्रिंग कितनी ऊर्जा अपने में समेटकर रख सकता है, और ऊर्जा कुशलता कितनी है, यानी गियर ट्रेन तथा एस्केपमेंट-ऑस्सिलेटर असेंबली कितनी ऊर्जा की खपत करती है। ऑटोनॉमी बढ़ाने का अर्थ यह है कि या तो एस्केपमेंट की कुशलता को सुधारा जाये या मेनस्प्रिंग को बड़ा किया जाए – या फिर दोनों किए जाएं, जैसा कि रोलेक्स ने कैलिबर 3255 में किया है।

बैरल को समझना

कैलिबर 3255

ई-ब्रोशर

कैलिबर 3255

डे-डेट 40

प्रेसिडेंट की घड़ी

रोलेक्स अपने सबसे प्रतिष्ठित मॉडल, ऑयस्टर परपेचुअल डे-डेट, की नई जेनरेशन पेश कर रहा है, जिसमें 40 मिमी केस के साथ आधुनिक डिज़ाइन है और उसके साथ ही एक नया मैकेनिकल मूवमेंट कैलिबर 3255 है, जो क्रोनोमीट्रिक निष्पादन का नया मानक कायम करता है।

कैलिबर 3255 के साथ रोलेक्स डे-डेट 40