QR कोड स्कैन करके WeChat पर रोलेक्स को फ़ॉलो करें

गार्बिनी मुगुरुज़ा

प्रत्येक रोलेक्स एक कहानी बयां करती है

स्पेनिश-विनीज़वीलियन टेनिस खिलाड़ी गार्बिनी मुगुरुज़ा ने निष्ठा के महत्व को पाँच वर्ष की नाज़ुक उम्र में जाना जब उनके माता-पिता ने उनके करियर में मदद करने के लिए दूसरे देश में बसने का निर्णय लिया। अंत में, 2014 में अपनी त्वरित सफलता देखने के लिए, मुगुरुज़ा को 16 साल और लगे। उस सफल वर्ष के बाद, उन्होंने अपनी पहली रोलेक्स खरीदी ताकि वो खुद को शीर्ष 20 में अपने पहले प्रवेश की याद दिला सकें – और यह याद भी दिला सकें कि बलिदान के साथ पुरस्कार भी मिलता है।

Every Rolex Tells A Story — Garbiñe Muguruza

“हर बार जब मैं कोर्ट में कदम रखती हूँ, मैं जानती हूँ कि मुझे साहसी होने की ज़रूरत है। एक पल ऐसा होता है जब आपको निडर होने कि आवश्यकता होती है। डर होना अच्छी बात है, यह आपको याद दिलाता है कि आपको इसकी ज़रूरत है। मुझे जीतना बेहद पसंद है, मुझे वहाँ जा कर खेलने और जी-जान लगा कर खेलने से प्यार है। ”

जब मैं पाँच साल की थी, तो मेरे परिवार ने वेनेज़ुएला से स्पेन जाकर बसने का एक कठिन निर्णय लिया। मेरे माता-पिता ने अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया ताकि मैं एक पेशेवर टेनिस खिलाड़ी बन सकूँ। मैंने यह सीखा की बलिदान के साथ पुरस्कार भी मिलता है।

“मेरे माता-पिता ने अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया ताकि मैं एक पेशेवर टेनिस खिलाड़ी बन सकूँ। मैंने यह सीखा की बलिदान के साथ पुरस्कार भी मिलता है।”

टेनिस में सफलता पाने का मेरा रास्ता बहुत लंबा रहा। इसमें सबसे महत्वपूर्ण, टूर्नामेंट से पहले की तैयारी है क्योंकि, जब हम वहाँ पर जाते हैं सब कुछ तराशा हुआ होता है: उस विशालकाय कोर्ट में हमें सब अच्छे कपड़े पहने हुए देखते हैं, सब कुछ सुंदर होता है, लेकिन वास्तविक जीवन में ऐसा नहीं है। वास्तविक जीवन लॉकर रूम में होता है, जहाँ कोई नहीं देखता, किसी गेम के पहले और बाद के डर और आँसू लिए, और अनगिनत घंटों की ट्रेनिंग के साथ।

हर बार जब मैं कोर्ट में कदम रखती हूँ, मैं जानती हूँ कि मुझे साहसी होने की ज़रूरत है। एक पल ऐसा होता है जब आपको निडर होने कि आवश्यकता होती है। डर होना अच्छी बात है, यह आपको याद दिलाता है कि आपको इसकी ज़रूरत है। मुझे जीतना बेहद पसंद है, मुझे वहाँ जा कर खेलने और जी-जान लगा कर खेलने से प्यार है। मैं जानती हूँ कि सामने कोई है जो मुझे हराना चाहती है, लेकिन मैं उसे और भी अधिक हराना चाहती हूँ।

हर किसी की व्यक्तिगत अपेक्षाएँ होती हैं, और मैं सोचती हूँ कि महानता तब है जब आप अपने ही लक्ष्य प्राप्त कर लें — चाहे वो जीतने भी बड़े या छोटे क्यूँ ना हों। 2014 में, मेरा साल बहुत अच्छा रहा, मैं ऑस्ट्रेलियन ओपन के चौथे दौर तक पहुँची और मैंने अपनी बचपन की हीरो सेरेना विलियम्स को पहली बार हराया, और अंत में शीर्ष 20 में पहुँची, जो मेरे लिए अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण पल था।

गार्बिनी मुगुरुज़ा की रोलेक्स घड़ी

जब मैं छोटी थी, तभी से मेरे माता-पिता दोनों के पास एक रोलेक्स थी, और मैं खुद भी हमेशा से एक पाना चाहती थी। लेकिन मेरे पिताजी ने हमेशा मुझसे कहा, “ तुम्हें इसे अर्जित करना होगा, तुम्हें कड़ी मेहनत करनी होगी और एक दिन तुम्हें इसे अपने लिए खरीदने का मौका मिलेगा।” उस साल के अंत में मुझे ऐसा एहसास हुआ कि अंततः वो पल आ ही गया, और जो कुछ भी मैंने हासिल किया था, यह उसका एक बहुत बड़ा ईनाम था।

मैं कोई ऐसी चीज़ चाहती थी जो मेरे साल जितनी ही अच्छी हो, कोई ऐसी चीज़ जो मुझे हमेशा इस पल की याद दिलाए, इससे पहले कि मैं नए प्रयासों की ओर बढ़ूँ। उस साल क्रिसमस के आस-पास, मैं अपने माता-पिता को लेकर मेरी पहली घड़ी खरीदने गई, जिसमें मेरा नाम और वर्ष 2014 खुदा हुआ था।

आज जब मैं इस घड़ी को देखती हूँ, तो मुझे खुशी दिखाई देती है। जो मुझे चाहिए उसे पाने के लिए मैं खुद को मेहनत करते हुए देखती हूँ, मैं खुद को एक स्वतंत्र महिला बनते हुए देखती हूँ। मैं खुद को अपने सपनों को पाने के लिए अपना सब कुछ कुर्बान करते हुए देखती हूँ।