baselworld_2019_new_yacht-master_42_video_cover_0001.mp4

नई 2019 घड़ियाँ याट-मास्टर 42

खुले समुद्रों
की
घड़ी

रोलेक्स एक नए 42 मिमी मॉडल: ऑयस्टर परपेचुअल याट‑मास्टर 42 के साथ अपनी याट‑मास्टर शृंखला को विस्तारित कर रहा है।

baselworld_2019_new_yacht-master_42_video_autoplay_0001.mp4
New Rolex Yacht-Master 42

हाई-टेक्नोलॉजी सेरामिक

याट-मास्टर 42 पर दोनों दिशाओं में घूमने योग्य बेज़ेल, एक मैट ब्लैक सेरामिक में, एक 60-मिनट के अंशांकित सेराक्रोम बेज़ेल इन्सर्ट के साथ फिट किया हुआ है।

इसके उभरे हुए अंशांकन और अंक पहले सेरामिक में ढाले जाते हैं और फिर पॉलिश किए जाते हैं।

हाई-टेक्नोलॉजी
सेरामिक

याट-मास्टर 42 पर दोनों दिशाओं में घूमने योग्य बेज़ेल, एक मैट ब्लैक सेरामिक में, एक 60-मिनट के अंशांकित सेराक्रोम बेज़ेल इन्सर्ट के साथ फिट किया हुआ है। इसके उभरे हुए अंशांकन और अंक पहले सेरामिक में ढाले जाते हैं और फिर पॉलिश किए जाते हैं। पहले 15 मिनट, मिनट-दर-मिनट के अनुसार उभरे हुए हैं ताकि समय अंतरालों को उच्च सटीकता से नापा जा सके। बेज़ेल के धारीदार किनारों के कारण पकड़ बहुत अच्छी होती है और बेज़ेल को आसानी से घुमाया जा सकता है।

रोलेक्स ने मोनोब्लॉक बेज़ेल और मोनोब्लॉक बेज़ेल इन्सर्ट के लिए विशेष सेरामिक के विकास में अग्रणी भूमिका निभाई। न केवल ये नए मटिरियल बेहद संक्षारण-प्रतिरोधी हैं बल्कि ये वस्तुतः स्क्रैचप्रूफ भी हैं, और इनके रंगों की तीव्रता दुर्लभ है और परीबैंगनी किरणों से अप्रभावित है। ब्रांड ने अनन्य विशेषज्ञता और अभिनव उच्च-तकनीकी विनिर्माण प्रणालियाँ विकसित की हैं जो इसे इन सेरामिक घटकों को स्वतंत्र रूप से उत्पादित करने की अनुमति देती हैं।

क्रोमालाइट डिस्प्ले

सभी रोलेक्स प्रोफ़ेशनल घड़ियों की भांति, याट‑मास्टर 42 सभी परिस्थितियों में, खास कर उसके क्रोमालाइट डिस्प्ले की बदौलत अंधेरे में, अद्वितीय पठनीयता प्रदान कराती है। इसके चौड़े हाथ और घंटों के सूचक, एक प्रकाशमान सामग्री से भरे हैं जो लंबे समय तक चमक छोड़ते हैं।

ऑयस्टरफ़्लेक्स ब्रेसलेट और ऑयस्टरलॉक सेफ़्टी क्लास्प

याट-मास्टर 42 एक ऑयस्टरफ़्लेक्स ब्रेसलेट के साथ फिट है, जो अकेले ही एक धातु के ब्रेसलेट की मज़बूती और विश्वसनीयता को एक एलास्टोमर स्ट्रैप के लचीलेपन, आराम और सुंदरता से जोड़ता है।

ऑयस्टरफ़्लेक्स ब्रेसलेट
और ऑयस्टरलॉक सेफ़्टी क्लास्प

याट-मास्टर 42 एक ऑयस्टरफ़्लेक्स ब्रेसलेट के साथ फिट है, जो अकेले ही एक धातु के ब्रेसलेट की मज़बूती और विश्वसनीयता को एक एलास्टोमर स्ट्रैप के लचीलेपन, आराम और सुंदरता से जोड़ता है। रोलेक्स द्वारा विकसित और निर्मित, यह अभिनव ब्रेसलेट, टाइटेनियम और निकल मिश्र-धातु से विनिर्मित धातु के लचीले ब्लेडों से बना हुआ है। ब्लेडों पर काले हाई-परफॉर्मेंस एलास्टोमर की एक परत चढ़ाई जाती है, जो एक ऐसी सामग्री है जो विशेष रूप से वातावरण के प्रभावों की प्रतिरोधी है और बहुत टिकाऊ है। अधिक आराम के लिए, ऑयस्टरफ़्लेक्स ब्रेसलेट के भीतर की ओर लंबवत कुशन लगे होते हैं जो घड़ी को कलाई पर स्थिर रखते हैं।

इस नए मॉडल में ऑयस्टरफ़्लेक्स ब्रेसलेट, रोलेक्स द्वारा डिज़ाइन और पेटेंटीकृत किए गए 18 कैरट व्हाइट गोल्ड में बने, ऑयस्टरलॉक फोल्डिंग सेफ़्टी क्लास्प से लैस है, जो इसके अचानक खुलने को रोकता है। इसकी विशेषता रोलेक्स ग्लाइडलॉक एक्सटेंशन सिस्टम भी है, जिसे ब्रांड द्वारा डिज़ाइन और पेटेंट किया गया है। क्लास्प के नीचे से संघटित, यह आविष्कार कुशल दाँतेदार तंत्र, बिना किसी उपकरण के उपयोग के, इस ब्रेसलेट की लंबाई को लगभग 2.5 मिमी की बढ़त के साथ 15 मिमी तक बढ़ा कर अनुकूलित करने की अनुमति देता है।

परपेचुअल कैलिबर 3235

याट-मास्टर 42 में कैलिबर 3235 लगा है, जो न्यू-जेनरेशन मूवमेंट है जिसे पूरी तरह रोलेक्स द्वारा विकसित और निर्मित किया गया है।

परपेचुअल
कैलिबर 3235

याट-मास्टर 42 में कैलिबर 3235 लगा है, जो न्यू-जेनरेशन मूवमेंट है जिसे पूरी तरह रोलेक्स द्वारा विकसित और निर्मित किया गया है। घड़ीसाज़ी कला की अग्रिम कतार में रोलेक्स की प्रौद्योगिकी का उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाला यह सेल्फ़-वाइंडिंग मैकेनिकल मूवमेंट जिसके कई पेटेंट दाखिल किए गए और जो अधिक बुनियादी सटीकता, ऊर्जा संचय, झटकों और चुंबकत्व के प्रति प्रतिरोध, सुविधा और विश्वसनीयता प्रदान करता है।

कैलिबर 3235 में रोलेक्स द्वारा पेटेंट किया गया क्रोनर्जी एस्केपमेंट शामिल है, जो अत्यधिक भरोसेमंदी के साथ उच्च ऊर्जा कुशलता का संयोजन प्रस्तुत करता है। यह निकल-फ़ॉस्फोरस से बना है और चुंबकीय क्षेत्रों से भी अप्रभावित रहता है। इसके मूवमेंट में एक अनुकूलित ब्लू पैराक्रोम हेयरस्प्रिंग फिट किया हुआ है, जिसे रोलेक्स द्वारा एक खास अनुचुंबकीय मिश्रधातु में उत्पादित किया जाता है और झटकों के मामले में यह पारंपरिक हेयरस्प्रिंग के मुकाबले 10 गुना अधिक सटीक है। ब्लू पैराक्रोम हेयरस्प्रिंग रोलेक्स ओवरकॉइल से लैस होता है, जो किसी भी स्थिति में इसकी नियमितता को सुनिश्चित करता है। ऑस्सिलेटर को रोलेक्स द्वारा डिज़ाइन किए हुए और पेटेंटीकृत हाई-परफ़ॉर्मेंस पैराफ़्लेक्स शॉक एब्जॉर्बर्स में फिट किया जाता है, जिससे मूवमेंट का आघात प्रतिरोध बढ़ता है।
कैलिबर 3235 में एक परपेचुअल रोटर के ज़रिए सेल्फ़ वाइंडिंग मॉड्यूल लगा होता है। इसकी बैरल संरचना और एस्केपमेंट की बेहतर कुशलता की बदौलत, कैलिबर 3235 का पॉवर रिज़र्व लगभग 70 घंटे तक चल जाता है। यह कैलिबर याट-मास्टर घड़ी पर पहली बार लगाया जा रहा है।

रोलेक्स और नौकायन

असाधारण
नाविक

महासागरों की शक्ति के साथ पराक्र्म करने के लिए साहस और सहज साहसिकता की आवश्यकता होती है। नाविकों को सफर शुरू करने से पहले पूरी तरह से सभी घटनाओं के लिए तैयार रहना चाहिए, क्योंकि वे जानते हैं कि वे अनिवार्य रूप से खराब मौसम, उनकी नाव को नुकसान और अन्य घटनाओं का सामना करेंगे। कई लोग रोलेक्स कलाई घड़ी क्रोनोमीटर पहनकर सफ़र पर निकले, जिनमें सर फ्रांसिस चिचेस्टर, बर्नार्ड मोएटेसियर और सर रॉबिन नॉक्स-जॉनस्टोन शामिल हैं, जिन्हें एक वर्ष से कम समय में एकल दौर की राउंड-द-वर्ल्ड जल यात्राओं को पूरा करने वाले पहले नाविक होने के लिए जाना जाता है।

सर फ्रांसिस चिचेस्टर
पश्चिम से पूर्व की तरफ अकेले विश्व जल यात्राओं को पूरा करने वाले पहले इंसान, हमेशा नौकायन के इतिहास का एक हिस्सा बने रहेंगे। इस विनम्र आदमी, जो एक उद्यमी और एक विमान चालक भी थे, ने नौकायन और रोमांच की भावना को भी चित्रित किया। उन्होंने 1966 से 1967 के बीच अपनी कलाई पर ऑयस्टर घड़ी पहन कर दुनिया के महासागरों में अपने लिए अग्रणी उपलब्धि हासिल की थी।

ऑयस्टर परपेचुअल

सर फ्रांसिस चिचेस्टर द्वारा
अपनी विश्व जलयात्रा के दौरान पहनी गई,
अगस्त 1966 – मई 1967।

अपने पहनने वाले की तरह भीगते हुए, खरोंचे खाते हुए और उछलते हुए, उनकी रोलेक्स घड़ी ने तूफानी समुद्र में उनका अच्छा साथ दिया। उन्होंने 1968 में रोलेक्स को लिखे पत्र में लिखा था “जिप्सी मॉथ IV, में दुनिया भर में मेरी यात्रा के दौरान, मेरी रोलेक्स घड़ी कई बार क्षतिग्रस्त हुए बिना मेरी कलाई से गिरी थी”। “मैं इससे ज़्यादा मज़बूत घड़ी की कल्पना नहीं कर सकता। जब सेक्सटैन्ट काम के लिए और फोरडेक पर काम के समय, [इसका] उपयोग किया जाता था तो इस पर अक्सर चोट लग जाती थी, और नाव पर आती समुद्र की लहरों से यह भीग भी जाती थी; लेकिन इन सब का इस पर कोई असर नहीं पड़ा।”

खुले समुद्रों की घड़ी

याट-मास्टर यूनिवर्स